NavBharat Samay

STF ने तय कर लिया था कि विकास दुबे को मारना है, ऐ अफसरने पूरे ऑपरेशन का मोर्चा संभाला

कानपुर में 8 पुलिसकर्मियों की हत्या के बाद यह तो साफ था कि अगर विकास दुबे यूपी पुलिस के हत्थे चढ़ा तो एनकाउंटर में मारा जाएगा। हालांकि, उज्जैन में नाटकीय तरीके से गिरफ्तार होने के बाद माना जा रहा था कि अब पुलिस के लिए विकास का एनकाउंटर आसान नहीं होगा। लेकिन, गिरफ्तारी की अगली सुबह ही विकास का एनकाउंटर कर दिया गया। इससे पहले विकास के पांच साथियों को भी एनकाउंटर में मारा गया था। 

सरकार ने पुलिस को दिया था फ्री हैंड
साथियों की हत्या के बाद पूरे प्रदेश की पुलिस फोर्स में गुस्सा था। सूत्रों के मुताबिक, पुलिस के शीर्ष नेतृत्व ने तय कर लिया था कि बिकरु शूटआउट से जुडे़ सभी आरोपियों का एनकाउंटर किया जाएगा। कहा जा रहा है कि मुख्यमंत्री की ओर से पुलिस के शीर्ष अधिकारियों को इस मामले में अपने तरीके से काम करने की छूट दी गई।

ये पुलिस अफसर कर रहे थे लीड
बिकरु हत्याकांड के बाद यूपी सरकार और पुलिस की काफी किरकिरी हो रही थी। मीडिया और विपक्ष की ओर से लगातार सवाल उठ रहे थे। इसके बाद एसटीएफ विकास और उसके साथियों की तलाश में जुड़ी। एसटीएफ के आईजी अमिताभ यश को मुख्यमंत्री योगी का करीबी और भरोसेमंद अफसर माना जाता है। विकास को तलाशने का पूरा अभियान अमिताभ यश के निर्देश पर चलाया जा रहा था। वहीं, एडीजी लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार इस पूरे ऑपरेशन को गाइड कर रहे थे।

अमिताभ के घटनास्थल पहुंचने के बाद विकास के मारे जाने की खबर आई
अमिताभ यश शुक्रवार सुबह घटनास्थल पर पहुंचे और इसके थोड़ी देर बाद सूचना आई कि विकास के दो साथियों का एनकाउंटर कर दिया गया है। दो दिन पहले विकास के दो और साथी प्रभात मिश्रा और बऊआ दुबे भी बेहद नाटकीय ढंग से इटावा और कानपुर में मारे गए।  पुलिस सूत्रों के मुताबिक, इन दोनों एनकाउंटर्स की पटकथा को भी अमिताभ का इशारा था। कहा जा रहा है कि सभी एनकाउंटर की कहानी एक जैसी न लगे, इसके लिए तय था कि किसका एनकाउंटर इटावा पुलिस और किसका एनकाउंटर एसटीएफ करेगी।            

पहले उज्जैन से चार्टर्ड प्लेन से लाने की बात सामने आई थी
यूपी पुलिस दिन-रात एक करके विकास दुबे को ढूंढ रही थी, लेकिन उज्जैन में उसकी नाटकीय गिरफ्तारी के चलते पुलिस के लोग भी मान रहे थे कि अब विकास का एनकाउंटर मुश्किल होगा। लेकिन एसटीएफ की ओर से यह तय किया जा चुका था कि विकास का एनकाउंटर करना है। बताया जाता है कि शासन ने भी इसकी हरी झंडी दे दी थी, इसलिए विकास को चार्टर्ड प्लेन से लाने की बात चर्चा में होने के बाद भी उसे सड़क के रास्ते लाया गया।

कोर्ट में विकास को नहीं किया गया पेश
इस बात की भी कोशिश की गई कि मध्य प्रदेश में विकास दुबे मजिस्ट्रेट के सामने पेश न किया जाए, क्योंकि इससे कानूनी अड़चन आ सकती थी। हुआ भी यही, उज्जैन पुलिस ने बिना कोर्ट में पेश किए विकास को यूपी एसटीएफ को सौंप दिया। एनकाउंटर के बाद के मैनेजमेंट और मीडिया के सवालों के जवाब देने के लिए कानपुर पुलिस को आगे किया गया।

एडीजी ने कहा था- हत्याकांड के आरोपियों को ऐसी सजा देंगे जो नजीर बनेगी
कानपुर हत्याकांड से लेकर विकास एनकाउंटर तक यूपी पुलिस लगातार सवालों के घेरे में रही है। इन सवालों का जवाब देने और सरकार का बचाव करने के लिए एडीजी (लॉ एंड ऑर्डर) प्रशांत कुमार ने मोर्चा संभाला। दो दिन पहले ही उन्होंने कहा था कि कानपुर हत्याकांड के आरोपियों को ऐसी सजा दी जाएगी, जो नजीर बनेगी। इस बयान से ही साफ हो जाता है कि  यूपी पुलिस किसी भी हाल में विकास दुबे के एनकाउंटर का मूड बना चुकी थी।

Read More

Related posts

कोरोना इस तरह शरीर पर भयावह तरीके से हमला करता है

samayteam

बिहार में फिर आकाशीय बिजली गिरने से 12 की मौत, इन जिलों के लिए जारी है अलर्ट

samayteam

कोरोना वैक्सीन का 5 से 12 साल की उम्र के बच्चों पर किया जाएगा परीक्षण

samayteam